गुड नाईट शायरी

रब तू अपना जलवा दिखा दे

रब तू अपना जलवा दिखा दे उनकी ज़िन्दगी कोई भी अपने नूर से सजा दे रब मेरे दिल की ये दुआ हैं मालिक मेरे दोस्त के सपने हकीक़त बना दे “शुभ रात्रि “

मीठी मीठी याद पलकों मैं सजा लेना

मीठी मीठी याद पलकों मैं सजा लेना साथ गुज़रे पल को दिल मैं बसा लो मजार ना आओ दिल मैं अगर मुस्कुरा कर मुझे सपनो मैं बुला लेना “शुभ रात्रि “

हर रात मैं भी आपके पास उजाला हो

हर रात मैं भी आपके पास उजाला हो हर कोई आपका चाहने वाला हो वक़्त गुजर जाये उनकी यादो के सहारे हो ऐसा कोई आप के सपनो को सजाने वाला ho “शुभ रात्रि “

सितारे चाहते हैं की रात आये

सितारे चाहते हैं की रात आये हम क्या लिखें की आपका जवाब आये सितारों की चमक तो नहीं मुझ मैं हम क्या करें की हमारी याद आये “शुभ रात्रि “

ऐसी हसीं आज बहारो की रात हैं

ऐसी हसीं आज बहारो की रात हैं एक चाँद आसमा पैर हैं एक मेरे पास हैं देने वाले ने कोई कमी ना की किसको क्या मिला ये मुकद्दर की बात हैं “शुभ रात्रि “

उसकी प्यारी मुस्कान होश उड़ा देती हैं

उसकी प्यारी मुस्कान होश उड़ा देती हैं उसकी आँखें हमें दुनिया भुला देती हैं आएगी आज भी वो सपने मैं यारो बस यही उम्मीद हमें रोज़ सुला देती हैं “शुभ रात्रि “

चाँद भी तो देखो तुम्हें तक रहा हैं

चाँद भी तो देखो तुम्हें तक रहा हैं सितारे भी थमे थमे से लग रहे हैं जरा मुस्कुरा दो हम सब के लिए हम भी टू तुम्हें शुभ रात्रि कह रहें हैं “शुभ रात्रि “

आज कितने दिनों के बाद

आज कितने दिनों के बाद हुई ये बरसात हैं याद दिलाती आपकी हर एक बात हैं मुझे मालूम हैं आपकी आँखों मैं हैं नींद आप चैन से सो जाओ कितनी हसीं रात हैं “शुभ रात्रि “

जिन्दगी एक रात है

जिन्दगी एक रात है, जिस में ना जाने कितने ख्वाब हैं, जो मिल गया वो अपना है, जो टुट गया वो सपना है, ये मत सोचो की जिन्दगी में कितने पल है, ये सोचो की हर पल में कितनी जिन्दगी है, इसलिए… जिन्दगी को जी भर कर जी लो…

काश कि तु चाँद और मैं सितारा होता

काश कि तु चाँद और मैं सितारा होता; आसमान में एक आशियाना हमारा होता; लोग तुम्हे दूर से देखते; नज़दीक़ से देखने का हक़ बस हमारा होता।