Shayari

चैन से जीने के लिए

“चैन से जीने के लिए चार रोटी और दो कपड़े काफ़ी हैं “। “पर ,बेचैनी से जीने के लिए चार मोटर, दो बंगले और तीन प्लॉट भी कम हैं !!”

Noun

Kavi ka beta school mein.  Teacher: what is a noun?  Student: Arz kiya hai..  Kutta bhi Hota hai apni gali mein king  Wah wah Noun is the name of any Person, Place or Thing

ख़ुशी एक ऐसा एहसास है,

ख़ुशी एक ऐसा एहसास है,जिसकी हर किसी को तलाश है. गम एक ऐसा अनुभव है, जो सबके पास है…. मगर ज़िन्दगी तो वही जीता है, जिसको खुद पर विश्वास है…!!

अदा है, ख्वाब है, तकसीम है

अदा है, ख्वाब है, तकसीम है, तमाशा है;मेरी इन आँखों में एक शख्स बेतहाशा है।

कुछ उम्दा किस्म के जज़्बात हैं हमारे

कुछ उम्दा किस्म के जज़्बात हैं हमारे,कभी दिल से समझने की तकलुफ़्फ़् तो कीजिए।

ज़रूरी काम है लेकिन रोज़ाना भूल जाता हूँ

ज़रूरी काम है लेकिन रोज़ाना भूल जाता हूँ,मुझे तुम से मोहब्बत है बताना भूल जाता हूँ,तेरी गलियों में फिरना इतना अच्छा लगता है,मैं रास्ता याद रखता हूँ ठिकाना भूल जाता हूँ।

रोज़ आता है मेरे दिल को तस्सली देने

रोज़ आता है मेरे दिल को तस्सली देने,ख्याल-ए-यार को मेरा ख्याल कितना है।

उसके चेहरे पर इस क़दर नूर था

उसके चेहरे पर इस क़दर नूर था,कि उसकी याद में रोना भी मंज़ूर था,बेवफा भी नहीं कह सकते उसको ज़ालिम,प्यार तो हमने किया है वो तो बेक़सूर था।

मोहब्बत की कश्ती में

मोहब्बत की कश्ती में सोच समझ कर सवार होना मेरे दोस्त,जब ये चलती है तो किनारा नहीं मिलता,और जब डूबती है तो सहारा नहीं मिलता..

अंदाज़ कुछ अलग ही हे मेरे सोचने का

अंदाज़ कुछ अलग ही हे मेरे सोचने का ,सब को मंज़िल का शौख हे, मुझे रास्ते का ..।