गौतम बुध Quotes

आपका मन ही सबकुछ हैं

आपका मन ही सबकुछ हैं, जैसा आप सोचते हैं वैसा ये बन जाता हैं. ——गौतम बुध

दुनिया में शक से बुरी चीज़ कोई नहीं हैं

दुनिया में शक से बुरी चीज़ कोई नहीं हैं. शक लोगों को दूर करते हैं. ये वो विष हैं, जो दोस्ती में दरार ला देता हैं. और अच्छे रिश्तो को तोड़ देता हैं. ये वो काटा हैं जो परेशान करता हैं. ——गौतम बुध

आप कितनी ही अच्छी बातें पढ़े

आप कितनी ही अच्छी बातें पढ़े, कितनी ही अच्छी बातें बोले, पर जब तक आप उन्हें अपनी जिंदगी में लागू नहीं करेंगे तो क्या फायदा. ——गौतम बुध

हमारे अलावा कोई भी हमारी

हमारे अलावा कोई भी हमारी मदद नहीं करता. कोई कर भी नहीं सकता, और शायद कोई करें भी न. हमें हमारे रास्ते खुद ही चलने पड़ेंगे. ——गौतम बुध

तीन चीज़े कभी नहीं छुपती

तीन चीज़े कभी नहीं छुपती; सूर्य, चंद्रमा और सत्य ——गौतम बुध

खुद पर नियंत्रण कर पाना

खुद पर नियंत्रण कर पाना, हजार युद्ध जितने से ज्यादा मूल्यवान हैं. ये आपकी जीत होती हैं. ये आपसे छीनी नहीं जा सकती, न ही दूतो से और न ही राक्षसों से, न ही स्वर्ग में न ही नर्क में. ——गौतम बुध

हम हमारे विचारों से गड़े होते हैं

हम हमारे विचारों से गड़े होते हैं; हम वही बनते हैं जो हम सोचते हैं. जब मन सच्चा होता हैं, ख़ुशी हमारी परछाई की तरह हमसे जुड़ जाती हैं. जो फिर कभी नहीं जाती. ——गौतम बुध

स्वस्थ रहने के लिए

स्वस्थ रहने के लिए, परिवार को ख़ुशी देने के लिए, सभी को शांति देने के लिए, व्यक्ति को सबसे पहले स्वयं के मन को अनुशासन में रखना होगा. अगर कोई व्यक्ति अपने मन को अनुशासित कर लेता हैं, तो वो ज्ञान की तरफ बढ़ता हैं. ——गौतम बुध

सेहत सबसे बड़ा तोहफा हैं

सेहत सबसे बड़ा तोहफा हैं, संतोष सबसे बड़ा धन हैं. और विश्वास सबसे बड़ा रिश्ता हैं. ——गौतम बुध

सोच समझकर बोलिए.

जीभ (यहाँ पर अर्थ हैं, आपके बोलने का तरीका) एक तेज चाकू की तरह हैं. वध (murder) भी कर देती हैं, और खून तक नहीं निकलता. अर्थात, आपके बोलने के तरीके से किसी को तकलीफ हो सकती हैं. सोच समझकर बोलिए. ——गौतम बुध