नुमाइश में बहुत भीड थी |

नुमाइश में बहुत भीड थी | एक साहब एक महिला से कहने लेगे – माफ कीजिए मैं कुछ देर आपसे बातें करना चाहता हूं |

महिला – इससे आपको क्या लाभ होगा |

साहब – दरअसल मेरी पत्नी खो गई है वह मुझे आपसे बातें करते हुए देखेगी तो गोली की तरह यहां पहुंच जाएगी |

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.