कौरव और पांडव बीच बड़ा ही

 कौरव और पांडव बीच बड़ा ही घमासान युद्ध चल रहा था कि तभी दुर्योधन की नज़र पांडवों के पीछे खड़े आदमी पर पड़ी।

दुर्योधन: चल यार युधिष्ठिर बाय यार हमने नहीं लड़ना तुम्हारे साथ।

युधिष्ठिर: क्या हुआ?

दुर्योधन: नहीं यार बस बायले यार तू अपना हस्तिनापुर भी वापस ले लेऔर द्रौपदी भाभी से हम खुद जाकर सॉरी कह देंगेहमने नहीं लड़ना तुम्हारे साथतू खुश रह।

युधिष्ठिर: अबे रुक तो सही?

दुर्योधन: नहीं यार भाई बस माफ़ कर तू हमें और जाने दे।

युधिष्ठिर: यार दुर्योधन भाई नहीं है तू मेरा बता तो सही हुआ क्या?

दुर्योधन: कुछ नहीं यार भाई बात ही खत्मना कोई चिंता ना कोई फ़िक्र मज़े ही मज़े।

युधिष्ठिर: नहीं पहले बता प्लीज़तुझे मेरी कसम क्या हुआ बता ना?

दुर्योधन: बस रहने दे यारसाला ज़रा सी बात थी और तूने रजनीकांत को बुला लिया।

2 Responses

  1. vijay laxmi
    vijay laxmi at | | Reply

    good joke yaar .. maza aa gaya

  2. Nitesh
    Nitesh at | | Reply

    Ha ha ha ha …Must Joke 🙂

Leave a Reply