उस दिल की बस्ती में

उस दिल की बस्ती में

आज अजीब सा सन्नाटा है,

जिस में कभी तेरी हर बात पर

 महफिल सजा करती थी।

Leave a Reply